Urdu poetry

A beautiful Urdu poem shared by a friend…

Ehsaase Ulfat

एहसासे उल्फ़त

यकरवानी इन दिलों की मोजज़ा लगता है क्यों,
यह तो फ़ितरत  है तेरी फिर जीने से डरता है क्यों।
राज़-ए-उल्फत यह है मैं तू हूँ, तेरा दम मुझमें है,
अपनी सांसें मेरी साँसों में नहीं सुनता है क्यों।।
— Chittaranjan Kaul [English translation here]

…and a song by Gulzar that haunts me just the same….

Tere Ishq Mein

affectionately…

Recent Posts

Recent Comments

Archives

Categories

Meta

crea Written by:

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *